Diabetes को कम करने का रामबाण नुस्खा

Diabetes आज दशक की बहुत बड़ी समस्या बन चुकी हैं हम इस समस्या से कैसे बहार निकलना हैं इन सभी के बारे में इस आर्टिकल के माध्यम से आपको बताया जायेगा लेकिन सबसे पहले हमे कुछ बातों को जान लेना चाइये जैसे की Diabetes क्या हैं ? Diabetes के लक्षण क्या हैं ? Diabetes हो जाने से हमारे बॉडी पार्ट्स में इसका क्या क्या प्रभाव देखने को मिलता हैं और जानेगे Diabetes को कम करने का रामबाण नुस्खा तो बने रहिये दोस्तों इस आर्टिकल में उम्मीद है इस आर्टिकल से आपको आपकी काम की चीज जरूर मिलेगी।

Diabetes क्या हैं ?

दोस्तों Diabetes को हिंदी में मधुमेह कहा जाता हैं। चलो इसे और आसान भाषा में जाना जाये दोस्तों जब हम खाना खाते है और जब खाना आमाशय में जाता है तो यह खाना अंदर में टूटना या यु कहना की पचना चालू हो जाता है इसके बाद खाने में मौजूद शुगर या ग्लुकोश निकलना स्टार्ट हो जाता हैं।

और शायद आपको पता होगा की पैंक्रियाज एक इन्सुलिन नामक हार्मोन छोड़ता हैं और यह इन्सुलिन मदद करता हैं ग्लुकोज को खून के माध्यम से हमारे पुरे बॉडी में ताकत या ऊर्जा का संचार करने में । मोटे मोटे तौर से बात की जाये तो मैं बता दू अगर हमारा पैंक्रियाज सही मात्रा में इन्सुलिन रिलीस नहीं करता या इन्सुलिन की कमी हो जाती हैं तो हमारे खून में शुगर की मात्रा का बढ़ जाना की मधुमेह या Diabetes कहलाता हैं। इस इन्सुलिन के कारण ही शुगर को कण्ट्रोल किया जाता हैं।

Diabetes के लक्षण क्या हैं ?

Diabetes का होना तो आज के समय में आम बात की हो गई हैं पहले Diabetes बड़े बुजुर्गो में देखा जाता था लेकिन अब तो कम उम्र वाले बच्चों में भी इस बीमारी के लक्षण देखने को मिल रहा हैं और यह बात चिकित्सक द्वारा भी प्रमाणित की गई है की मधुमेह एक तो आनुवंशिक भी हो सकती हैं , और हमारे खान पान की वजह से भी यह स्तिथि बन सकती हैं Diabetes का लेवल कम होना या ज्यादा होना भी मरीज के लिए जानलेवा हो सकती हैं।

दोस्तों बात कर लेते हैं इसके मुख्य मुख्य क्या लक्षण या सिम्टम्स देखने को मिलते हैं –

अगर मरीज में यह लक्षण देखने को मिलते हैं तो उसे हम गंभीर मामला कह सकते हैं –

  • मरीज को दौरा पड़ना
  • अचानक से बेहोशी में चले जाना

कुछ लक्षण और भी हैं

  • चक्कर आना
  • अगर शरीर में कोई घाव है तो उसका धीरे से भरना
  • नजरो का धुंधला होना
  • मरीज को भूख ज्यादा लगना
  • बॉडी में डिहाइड्रेशन होना
  • वजन का कम होना
  • मरीज को बार बार यूरिन या पेशाब आना

यह कुछ लक्षण आपको बताते गए हैं अगर आपको इस प्रकार के लक्षण किसी अपने परिजनों में दिखाई दे तो आप अपने चिकित्सक को जरूर दिखाएं।

मरीज को Diabetes हो जाने पर बॉडी पार्ट्स में क्या क्या प्रभाव होते हैं ?

Diabetes हो जाने से हमारे बॉडी पार्ट्स में कुछ प्रभाव इस प्रकार से देखने को मिलते है –

मानसिक स्थिति या मानसिक व्यवहार

अकसर देखने को मिला हैं जो भी मधुमेह के पेसेंट्स होते हैं उनके व्यवहार में कुछ बदलाव देखने को मिला है जैसे की वे एंग्जाइटी होना और उनका डिप्रेसन में जाना यह इसलिए होता है क्यूंकि उनके खून में शुगर की मात्रा एक तो कम होती है या ज्यादा होती हैं। अगर इस स्थिति को ठीक करना हैं तो खून में शुगर के लेवल को मैंटेन करना होगा तब इस स्थिति को सुधारा जा सकता हैं।

आखों पर प्रभाव

अगर Diabetes की समस्या बहुत लम्बे दिनों तक रहती हैं तो इससे हमारे आखों में इसका सीधा प्रभाव पढ़ सकता हैं इसमें हमारे आखों की रेटिना के अंदर मौजूद ब्लड वैसल खराब हो जाती हैं। जिससे मरीज को आखों में अंधापन आ सकता हैं।

त्वचा पर प्रभाव

Diabetes हो जाने से हमारे बॉडी पार्ट्स जैसे की त्वचा में दाग या गोल गोल चकते बन जाते हैं यह जरुरी नहीं की चकते गोल ही हो यह किसी भी आकार के हो सकते हैं।

अब हम आपको बताएंगे इसको हम कैसे ठीक कर सकते है कुछ नुस्खों से या घरेलु उपायों से चलो जानते हैं।

मधुमेह को छू मंतर करने के रामबाण उपाय

दोस्तों,मधुमेह को कंट्रोल करने के लिए हम आपको ऐसी रेमेडी बताने वाले हैं जो शरीर में बड़ी हुई शुगर के लेवल को मैनेज करने में बहुत ज्यादा मदद करने वाली हैं फिर देर किस बात की चलो रेमेडी को बनाना स्टार्ट करते हैं।

इस रेमेडी को बनाने के लिए हमें कुछ इंग्रेडिएंट्स की जरूर पड़ेगी आपको उनके बारे में निचे बताया गया है अगर आपके घर में यह चीजे उपलब्ध ना हो तो आप इसे बाजार से ला लीजियेगा तो वे सुपर इंग्रेडिएंट्स इस प्रकार हैं –

  • मेथी
  • करेला
  • त्रिकटु
  • गुड़ मार
  • जामुन

और हमने आपको जो भी इंग्रेडिएंट्स बताये हैं यह पुरे तरीके से आयुर्वेद हैं कोई भी इंग्रेडिएंट् ऐसा नहीं है की यह शरीर को नुकसान पहुचाये लेकिन मैं बता दू की अगर हम किसी भी चीज का अति उपयोग करते हैं तो वह कही न कहीं नुकसान दायक हो सकती है इसलिए आपको जो जो बताया जाये उसको जरूर गौर से देखिएगा और पढ़ियेगा।

मेथी

मेथी के पत्तों से लेकर इसके बीज भी बड़े उपयोगी हैं वैसे तो हम मेथी के बीजो का ही उपयोग करने वाले है आपको पता नहीं होगा ये मेथी मधुमेह को कंट्रोल करने में कितना मदद करता है लेकिन मैं आपको बता दू की मेथी एक ऐसा सुपर सीड्स है जिसमे गुड रिच सोर्स होते है जैसे की इसमें फाइबर , अल्काइड , कार्बोहाइड्रेट ,स्टेरॉइडल सेपोनिन्स , एमिनो एसिड्स और अनेको मिनरल्स पाए जाते हैं जैसे की बीटा केरोटीन , जिंक , कॉपर , आयरन इत्यादि पोषक तत्व मौजूद होते है जो इसे सुपर सीड्स बना देता है वैसे यह हमारे बॉडी में मधुमेह को मैनेज करने में बहुत मदद करता हैं और फायदा पहुँचता हैं।

करेला

दोस्तों करेला भी एक अच्छा सोर्स है मधुमेह को कंट्रोल करने के लिए अगर आप करेले की सब्जी या करेले का जूस हरदिन पीते हैं तो यह मधुमेह के स्टेप वन और स्टेप टू मरीजों के लिए यह सुरक्षा कवच का काम करता हैं मैं इसलिए यह बात कह रहा हु की करेले में कुछ ऐसे हाई लेवल के कंपाउंड्स होते हैं जो की काफी इफेक्टिव डालते है जो की ब्लड में शुगर के लेवल को बहुत अच्छी तरीके से मैनेज करता हैं और इस प्रॉब्लम से हमे बाहर लाने में मदद करता हैं।

त्रिकटु

दोस्तों आपको डरने की कोई जरूरत नहीं हैं की ये क्या अजीब नाम है त्रिकटु मेरे दोस्तों त्रिकटु पाउडर और कुछ नहीं है यह बस तीन चीजों से बना हुआ पाउडर है जिसे हम त्रिकटु पावडर कहते हैं यह त्रिकटु पावडर किन किन चीजों से मिलकर बनता है।

इसको पहले जान लेते है पहली चीज हैं अदरक , दूसरी चीज है काली मिर्च और तीसरी चीज हैं लॉन्ग इन सभी को मिक्स करके जो पाउडर बनता है उसे ही त्रिकटु पावडर कहते हैं गौर करे की इन सभी चीजों की मात्रा बराबर बराबर होनी चाइये।

दोस्तों अगर आप भी इस त्रिकटु पावडर का सेवन करते हैं तो यह आपके बड़े हुए शुगर लेवल को कम करने का काम करता हैं जिससे आपकी मधुमेह कंट्रोल रहती हैं।

गुड़मार

गुड़मार एक ओषधि हैं इसके पत्तों में एंटी ऑक्सीडेंट और एंटी इंफ्लेमेंटरी गुण पाए जाते है और इन पतों का सेवन करने से यह हमारे बॉडी में इन्सुलिन हार्मोन को अच्छे मात्रा में बढ़ाकर बड़ी हुई शुगर के लेवल को कम करता हैं यह औषधि अक्सर भारत में ही देखने को मिलती हैं। और यह मधुमेह के दोनों टाइप को कंट्रोल करने में भी सक्षम हैं तो हैं ना बहुत लाभकारी औषधि लेकिन गौर करे की इसका सेवन ज्यादा ना करे।

जामुन

आयुर्वेद में कहां गया हैं की जामुन के पत्ते , फल , छाल , जड़ ये सभी औषधि है और जो हम इसके फल को खा कर इसके गुटली को फेक देते हैं हम इसके महत्व को समझ ही नहीं पाए लेकिन मैं आपको बता रहा हु की अगर आप जामुन के गुटली का पावडर बना के इसका सेवन करते हैं तो यह फि ब्लड में बड़ी हुई शुगर को कम करने का काम करता है।

अगर इसकी गुटली नहीं मिली तो कोई बात नहीं अगर आप जामुन के पत्ते को भी हरदिन चबाकर खाते हैं तो यह उतना ही असर डालेगा जितना की इसका फल या गुटली से बना पावडर तो जामुन के पेड़ से लेकर इसके फल , छाल ,गुटली ,पत्ते हर एक पार्ट औषधि गुण से भरपूर है।

Diabetes के लिए इस नुस्खे को कैसे बनायें ?

इस नुस्खे को बनाने की विधि

इस नुस्खे को बनाने के लिए हमें सबसे पहले जानना होगा की इसकी क्या मात्रा रखना हैं ताकि यह शरीर में कोई साइड इफेक्ट ना डाले तो मैं बता दू की हमें सभी चीजों की कितनी कॉंटेंटी लेनी है।

  • सबसे पहले हमें 100 ग्राम करेला लेना है।
  • 100 ग्राम मेथी दाने लेना हैं।
  • 100 ग्राम गुड़मार के सूखे पत्ते
  • 200 ग्राम जामुन की सुखी गुटली लेना हैं।
  • 50 ग्राम त्रिकटु पावडर लेना हैं

इन सभी को मिला कर किसी चीज से इनका पावडर बना लेना हैं। फिर इस पाउडर को हर दिन खाना खाने से पहले इस पावडर को एक चम्मच पानी के साथ ले लिए फिर देखिये इस राम बाण नुख्से का चमत्कार।

दोस्तों आपको यह रेमेडी कैसे लगी कमेंट जरूर कीजियेगा ताकि आपकी बातें हमारे तक पहुंच सके। धन्यवाद !

आप इन्हे भी पढ़ सकते हैं !

fatty liver diet in hindi

Leave a comment